Hindustan Saga Hindi
हेल्थ & ब्यूटी

शेल्बी अस्पताल में मस्तिष्क एन्युरिझम (रक्त वाहिका में बुलबुला) से पीड़ित एक महिला का सफल उपचार

न्यूरोवस्कुलर इंटरवेंशन नामक एंडोवास्कुलर तकनीक से पहली बार दक्षिण गुजरात में इलाज किया गया।

सूरत: सेरेब्रल एन्यूरिज्म (रक्त वाहिका में बुलबुले) से पीड़ित एक 45 वर्षीय महिला का सूरत के शेल्बी अस्पताल में न्यूरोवास्कुलर इंटरवेंशन नामक एंडोवास्कुलर तकनीक से सफलतापूर्वक इलाज किया गया।

इस बारे में जानकारी देते हुए डॉ. जेनी गांधी ने कहा कि कुछ दिन पहले एक 45 वर्षीय महिला मस्तिष्क में रक्त वाहिकाओं की समस्या के साथ हमारे अस्पताल में आई थी. उनकी गंभीर हालत को देखते हुए तत्काल एमआरआई (मैग्नेटिक रेजोनेंस इमेजिंग) और एमआरए किया गया। (मैग्नेटिक रेजोनेंस एंजियोग्राफी) टेस्ट और मस्तिष्क की जांच की गई। हमें बाद में पता चला कि महिला मस्तिष्क में एन्यूरिज्म (रक्त वाहिका का उभार) से पीड़ित थी। आवश्यक जांच और रिपोर्ट के बाद मस्तिष्क धमनीविस्फार का इलाज ‘एंडोवास्कुलर’ तकनीक द्वारा किया गया जिसे ‘न्यूरोवास्कुलर एंडोवास्कुलर’ कहा जाता है।

डॉ। गांधी ने आगे कहा कि इस सहवर में किसी भी प्रकार की ओपन सर्जरी (खोपड़ी को खोलना) की आवश्यकता नहीं होती है। यह प्रक्रिया कैथलैब में की जाती है। जिसमें पैर में जांघ के पास शरीर में एक छोटी सी सुई डाली जाती है। मेडिकल टीम ने “एंडोवास्कुलर वेब इंट्रावास्कुलर डिवाइस” से मरीज का इलाज किया। जो पूरे सूरत और दक्षिण गुजरात में अपनी तरह का पहला एंडोवास्कुलर इंटरवेंशनल था। शेल्बी अस्पताल, सूरत में उनके सहित एक टीम ने पिछले 5 वर्षों में सूरत और दक्षिण गुजरात में न्यूरोवास्कुलर  इंटरवेंशन के ऐसे कई मामलों का सफलतापूर्वक इलाज किया है।

न्यूरो- इंटरवेंशन में सेन्टर ऑफ़ एक्सीलेन्स : डॉ. जेनी गांधी और शेल्बी अस्पताल, सूरत

डॉ. जेनी गांधी सूरत में एक “इंटरवेंशनल रेडियोलॉजिस्ट/वैस्कुलर इंटरवेंशनिस्ट” हैं। इंटरवेंशनल रेडियोलॉजी/वैस्कुलर इंटरवेंशन एक मेडिकल सुपरस्पेशलिटी है जो शरीर की रक्त वाहिकाओं के लिए छवि-निर्देशित सर्जरी प्रदान करती है। सभी सर्जरी त्वचा पर कोई चीरा लगाए बिना पिन-होल के माध्यम से की जाती हैं।

‘वैस्कुलर इंटरवेंशन’ एक मेडिकल सुपर-स्पेशियलिटी है। जिसके माध्यम से डॉक्टर शरीर की सरल और जटिल समस्याओं का इलाज बिना किसी ओपन सर्जरी के करते हैं, जिसमें रिकवरी रेट बहुत तेज होता है। अधिकांश रोगियों को 2 दिनों के भीतर अस्पताल से छुट्टी दे दी जाती है।

सुपर स्पेशलिस्ट डॉक्टर डाॅ. गांधीजी के अहमदाबाद के बी.जे. मेडिकल कॉलेज से एमडी रेडियोलॉजी और यूके से एफआरसीआर में स्नातक की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने केईएम अस्पताल, मुंबई और केएमसीएच कोयंबटूर से इंटरवेंशनल रेडियोलॉजी के विश्व प्रसिद्ध विशेषज्ञों से न्यूरोइंटरवेंशन और पेरिफेरल इंटरवेंशन उपचार में प्रशिक्षण प्राप्त किया है। उन्हें इंडियन सोसाइटी ऑफ वैस्कुलर एंड इंटरवेंशनल रेडियोलॉजी द्वारा 2019 में ‘बेस्ट फेलो ऑफ इंटरवेंशनल रेडियोलॉजी’ से सम्मानित किया गया है।

डॉ. जेनी गांधी 2019 से सूरत के शेल्बी अस्पताल में सेवा दे रही हैं। अब तक वे 5000 से अधिक इंटरवेंशनल सर्जरी सफलतापूर्वक कर चुके हैं। सभी हाई  एन्ड  जटिल न्यूरो- इंटरवेंशन अर्थात एंडोवास्कुलर कॉइलिंग, मस्तिष्क के लिए एन्यूरिज्म और कंटूर/वेब डिवाइस प्लेसमेंट, स्ट्रोक के लिए कैरोटिड स्टेंटिंग और इंट्रा-क्रैनियल स्टेंटिंग, ड्यूरल एवीएम/एवीएफ का एम्बोलिज़ेशन, मस्तिष्क एवीएम का एम्बोलाईझेशन  सफलतापूर्वक किया जा रहा है।

ब्रेन एन्यूरिज्म का सफल फ्लो-डायवर्टर उपचार और ड्यूरल एवीएफ और ब्रेन एवीएम का एम्बोलिज़ेशन उपचार शेल्बी अस्पताल, सूरत में उपलब्ध है। डॉ. जेनी गांधी सूरत की पहली आईआर हैं जिन्होंने शेल्बी अस्पताल में जटिल मस्तिष्क धमनीविस्फार के लिए ‘कंटूर और वेब डिवाइस प्लेसमेंट’ उपचार सफलतापूर्वक किया है। डॉ। जेनी गांधी सूरत और दक्षिण गुजरात में हर महीने अधिकतम संख्या में न्यूरोवास्कुलर और पेरिफेरल वैस्कुलर इंटरवेंशन का इलाज करती हैं।

यह भी देखें...

तापी जिले के कुकरमुंडा तहसील में RK HIV AIDS रिसर्च एंड केयर सेंटर द्वारा एक मुफ्त मेगा चिकित्सा शिबिर का आयोजन किया गया

Hindustan Saga Hindi

शेल्बी अस्पताल के डॉ.  विक्रम शाह को हेल्थकेयर पर्सनैलिटी ऑफ द ईयर अवॉर्ड

Hindustan Saga Hindi

आइए जानते हैं: पान-मावा, गुटखा खाने से बंद मुंह को खोलने के खास नुस्खे…

Hindustan Saga Hindi

Leave a Comment